Saturday, 3 March 2018

पीएसीएल निवेशक देख लो अब क्या होगा 2018 | sebi refund status 2018

Welcome To Pacl Refund Status 2018

जनलोक प्रतिष्ठान की ओर से २६ फ़रवरी २०१८ को मुंबई स्थित सेबि हेड ऑफ़िस, बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स में आयोजित महामोर्चा में; आप भारत के सभी संघटन के पदाधिकारी एवं पीएसीएल निवेशक और जनलोक प्रतिष्ठान के अंतर्गत सभी स्टेट और डिस्ट्रिक्ट कमिटीया और पुरे भारत के पार्ल्स पीड़ित निवेशक शामिल हुए और आप सब ने असुविधा में धूप में बैठकर जनलोक

यह भी पढ़ें - जानिए मुम्बई धरना के बाद क्या हुवा Click Here

 प्रतिष्ठान पर विश्वास रखकर आपने बड़ी संख्या में सपोर्ट करके जनलोक की ताक़द बढ़ाई इसलिए मैं जनलोक प्रतिष्ठान की ओर से आप सभी का शुक्रियादा करती हूँ। 

आप सभी के मन में सेबि हेड ऑफ़िस पर जाने की इच्छा थीं लेकिन जिस
मैदान में हम बैठे थे वहाँ से हमारी आवाज़ सेबि हेड ऑफ़िस में गूँज रहीं थीं। इसका नतीजा सेबि के चेर्मन अजय त्यागीजीं ने हमें कोर्ट हीअरिंग मीटिंग दी। उस मीटिंग में हमारे माँग पत्र का आवेदन स्वीकारकर त्यागीजीं ने मीटिंग में जो स्टेट्मेंट दिया वह हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने हमें यह आश्वासन दिया है कि, वे इस आवेदन को लेकर लोढ़ा कमिटी के साथ मीटिंग करके तुरंत हमें उसका लिखित रिपोर्ट देंगे। हमारा महामोर्चा सब की ताकद से सफलता की ओर बढ़ रहा हैं।

२६ फ़रवरी को ही सेबि ने उनकी अफ़िशल वेबसाईट पर जनलोक के साथ हुई मीटिंग कि प्रेस रिलीज़ दीं। और २७ फ़रवरी को क्लेम सब्मिशन की तारीख़ २८ फ़रवरी से बढ़ाकर ३१ मार्च तक कि। मैं मुंबई पुलिस का भी शुक्रियादा करतीं हूँ क्योंकि, उन्होंने हमारे इस महामोर्चा का विडीओ शूटिंग के साथ लिखित रिपोर्ट केंद्र सरकार को दिया है। इस महामोर्चा की न्यूज़ सभी लोकल, नैशनल और इंटर्नैशनल न्यूज़पेपर में त्यागीज़ी के स्टेट्मेंट के साथ आयीं है। हम सबकी आवाज़ केंद्र सरकार तक पहुँच चुकी हैं। आप सभी निवेशक इतने क्रोधित होने के बावजूद भी आपने हमारी सेबि के साथ हुई बात को शांति से सुनकर इस महामोर्चा का समापन शांतिपूर्वक करके हम सब ने यह संदेश दिया है कि, 

हम उग्र भी बन सकते हैं और शांति भी बनाए रख सकते हैं। हम क़ानून से लढ़ाई जीतना चाहते हैं इसलिए शांति बनाई रखना ज़रूरी है, क्योंकि हम सप्रीम कोर्ट में W.P. 640/2016 और फ़ेडरल कोर्ट ऑफ औस्ट्रेलिया में QUD 528/2016 के अंतर्गत निवेशकों के लिए लढ़ रहे हैं और इसमें हमें कोई बाधा नहीं आनी चाहिए। पीएसीएल निवेशकों के प्रेशर कि वजह से, केंद्र सरकार सभी निवेशकोंके हित के लिए एक क़ानून बना रही हैं।इस क़ानून में जनलोक प्रतिष्ठान अपनी तरफ़ से इस मैटर में हमें जो दिक़ाते आयी हैं, वे हम सुझाव के रूप में केंद्र सरकार को एक पत्र द्वारा दे रहे हैं। हमारा महामोर्चा मुंबई के बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स में था, जो भारत की आर्थिक राजधानी हैं और आजतकवहाँ पर कोई भी मोर्चा नहीं हुआ था।

 मैं एक बार फिर सभी पीएसीएल निवेशकोंका का शुक्रियादा करना चाहतीं हूँ। धन्यवाद। सौ. सुनंदा क़दम, अध्यक्षा, जनलोक प्रतिष्ठान।

दोस्तों निचे एक वीडियो है उसे देखिये और अपने दोस्तों के साथ शेयर करो।




Copyright © 1999 - 2018 Pacl Refund Status, All Rights Reserved. http://www.paclrefundstatus.com

No comments:

Post a Comment